हम हुए बीस हज़ारी!

by

आपको यह सूचित करते हुए प्रसन्नता हो रही है कि कविता कोश में उपलब्ध पन्नों की संख्या अब 20,000 के ऊपर पँहुच गयी है। अभी दो सप्ताह पहले ही कोश की स्थापना के तीन वर्ष पूरे हुए हैं। इतने कम समय के दौरान 20,000 पन्नों का संकलन अपने आप में एक उपलब्धि है। यह उपलब्धि इसलिये भी विशेष है क्योंकि कोश में संकलित रचनाकारों का चयन एक कठिन प्रक्रिया के ज़रिये किया जाता है।

कविता कोश और हिन्दी विकिपीडिया का विकास अंतरजाल पर हिन्दी की उपस्थिति और लोगो के हिन्दी के प्रति प्रेम और लगन को दर्शाता है। यह दोनो ही परियोजनाएँ अब हिन्दी भाषा के परचम को अंतरजाल पर फ़हराने में अग्रणी हो चुकी हैं। दोनो ही परियोजनाएँ सामूहिक प्रयास द्वारा बड़े लक्ष्यों को प्राप्त कर लेने का उत्तम उदाहरण हैं।

बीस हज़ार पन्नों के आंकडे़ तक पँहुचने के इस अवसर पर कविता कोश अपने सभी योगदानकर्ताओं और कविता कोश टीम के सभी सदस्यों को धन्यवाद देता है। आप सभी की लगन और मेहनत रंग लाई है।

कविताओं के इस कोश को और भी अधिक विशाल और विविधता से भरपूर बनाने के हमारे प्रयास निरन्तर जारी रहेंगे।

आप सभी को आपके सहयोग और शुभकामनाओं के लिये धन्यवाद।

प्रतिष्ठा शर्मा
प्रशासक, कविता कोश टीम

Advertisements

7 Responses to “हम हुए बीस हज़ारी!”

  1. nirmla Says:

    आपको और आपकी टीम को बहुत बहुत बधाई इस जानकारी के लिये आभार्

  2. हिमांशु Says:

    कविता कोश का यह निरन्तर विकासमान चक्र यूँ ही अग्रसर रहे , यही शुभकामनायें हैं ।
    कविता कोश के पृष्ठों की संख्या बीस हजार पहुँचने पर बधाई – व पूरी कविता कोश टीम और उसके योगदानकर्ताओं को साधुवाद ।

  3. अनूप शुक्ल Says:

    बधाई!

  4. loksangharsha Says:

    v.good ………………..v.good…………………..v.good

  5. BAJARANG BAHADUR SINGH Says:

    HAM USI TIM KE SIPAHI HAA
    KAL JAHA TUNE DAWAT URAI HAA
    FARK ITNA HAA
    HAMARE TUMHARE ME
    HAM RAH CHALTE HAA
    TUNE RAHH BANAI HAA
    TERE PAG KE NISHAN ,
    JO JAMIN PER PARE HAA
    MANJIJ TAK PAHUCHANE KA
    BAS SAHARA BANE HAA
    SAMJHA NAHI THA TUMKO ,
    TUM ITNE VEVFA NIKALOGE,
    NISHAN BANE JO SAHARA ,
    USE BHI MITA DOGE .
    UNGALI PAKAR KER CHALATE THHE,
    TAB MAJA HI KUCH AUR THHA,
    KAL MUJHE DEKHKAR MUR GAYE,
    BATA DO KHAUPH KAUN SA THHA

  6. BAJARANG BAHADUR SINGH Says:

    DHANYA VAD

  7. Simran Garg Says:

    bakawas ha !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!1

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: